बारिशों की छम छम में Barisho Ki Cham Cham Mein Lyrics - Anuradha Paudwal, Udit Narayan

बारिशों की छम छम में Barisho Ki Cham Cham Mein Lyrics - Anuradha Paudwal, Udit Narayan

बारिशों की छम छम में Barisho Ki Cham Cham Mein Lyrics - Anuradha Paudwal, Udit Narayan

Barisho Ki Cham Cham Lyrics

Barisho Ki Cham Cham Mein Lyrics in Hindi from album Jaikara, sung by Anuradha Paudwal, Udit Narayan, lyrics written by Saral Kavi. 

Hindi Bhajan: Barisho Ki Cham Cham
Album: Jaikara
Singers: Anuradha Paudwal, Udit Narayan
Lyrics: Saral Kavi
Music Label: Tseries Music


Barisho Ki Cham Cham Mein Lyrics


बारिशों की छम छम में तेरे दर पे आए है
बारिशों की छम छम में, तेरे दर पे आए है
मेहरावाली मेहरा कर दे, झोलियाँ सबकी भर दे

बिजली कड़क रही है, हम थम के आए है
बिजली कड़क रही है, हम थम के आए है
मेहरावाली मेहरा कर दे, झोलियाँ सबकी भर दे
मेहरावाली मेहरा कर दे, झोलियाँ सबकी भर दे

कोई बूढी माँ के संग आया, कोई तन्हा हुआ तैयार
कोई आया भक्तो की टोली में, कोई पूरा परिवार
हो हो कोई बूढी माँ के संग आया, कोई तन्हा हुआ तैयार
कोई आया भक्तो की टोली में, कोई पूरा परिवार
सबकी आँखे देख रही, कब पहुंचे तेरे द्वार
सबकी आँखे देख रही, कब पहुंचे तेरे द्वार

छोटे छोटे बच्चो को, संग लेकर आए है
बारिशों की छम छम में, तेरे दर पे आए है
मेहरावाली मेहरा कर दे, झोलियाँ सबकी भर दे
मेहरावाली मेहरा कर दे, झोलियाँ सबकी भर दे माँ 

काली घनघोर घटाओं से, जम जम कर बरसे पानी
आगे बढ़ते ही  जाना है, भक्तो ने यही है ठानी
हो.. काली घनघोर घटाओं से, जम जम कर बरसे पानी
आगे बढ़ते ही जाना है, भक्तो ने यही है ठानी

सबकी आस यही है, की मिल जाए तेरा प्यार
भीगी भीगी पलकों पर, सपने सजाए है
बारिशों की छम छम में, तेरे दर पे आए है
मेहरावाली मेहरा कर दे, झोलियाँ सबकी भर दे
मेहरावाली मेहरा कर दे, झोलियाँ सबकी भर दे ओ..

तेरे ऊँचे भवन पे माँ अम्बे, रहते है लगे मेले
मीठा फल वो ही पाते है, जो तकलीफे झेले
हो हो तेरे ऊँचे भवन पे माँ अम्बे, रहते हैं लगे मेले
मीठा फल वो ही पाते है, जो तकलीफे झेले
दुःख पाकर ही, सुख मिलता है भक्ति का ये सर

मैया तेरे दरश के दिवाने आए है
बारिशों की छम छम में, तेरे दर पे आए है
मेहरावाली मेहरा कर दे, झोलियाँ सबकी भर दे
मेहरावाली मेहरा कर दे, झोलियाँ सबकी भर दे माँ 

रिम झिम ये बरस रहा पानी, अमृत के लगे समान
इस अमृत में भीगे पापी, तो बन जाए इंसान
हो.. रिम झिम ये बरस रहा पानी, अमृत के लगे समान
इस अमृत में भीगे पापी, तो बन जाए इंसान
कर दे मैया रानी कर दे, हमपे भी उपकार
हमने भी जयकारे, जम जम के लगाए है

बारिशों की छम छम में, तेरे दर पे आए है
मेहरावाली मेहरा कर दे, झोलियाँ सबकी भर दे
मेहरावाली मेहरा कर दे, झोलियाँ सबकी भर दे ओ..

More Durga Mata Bhajan: 
Durga Aarti


0 Response to "बारिशों की छम छम में Barisho Ki Cham Cham Mein Lyrics - Anuradha Paudwal, Udit Narayan"

Post a Comment

Ads Atas Artikel

Ads Center 1

Ads Center 2

Ads Center 3