फूलों में सज रहे हैं Phoolon Mein Saj Rahe Hain Lyrics - Vinod Agarwal

फूलों में सज रहे हैं Phoolon Mein Saj Rahe Hain Lyrics - Vinod Agarwal

फूलों में सज रहे हैं Phoolon Mein Saj Rahe Hain Lyrics - Vinod Agarwal
Phoolon Mein Saj Rahe Hain Lyrics


Phoolon Mein Saj Rahe Hain Lyrics in Hindi, sung by Vinod Agarwal, enjoy this popular krishna bhajn and Lovely Lord Shri Krishna Devotional Song. 

Bhjan: Phoolon Mein Saj Rahe Hain
Singer: Vinod Agarwal

Phoolon Mein Saj Rahe Hain Lyrics in Hindi 


फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी
फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी

फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी
फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी

और साथ सज रही हैं
श्री वृषभानु की दुलारी
और साथ सज रही हैं
श्री वृषभानु की दुलारी
और साथ सज रही हैं
श्री वृषभानु की दुलारी
और साथ सज रही हैं
श्री वृषभानु की दुलारी

टेढ़ा सा मुकुट सिर पर
रखा है किस अदा से
टेढ़ा सा मुकुट सिर पर
रखा है किस अदा से

करुणा बरस रही हैं
करुणा भरी नज़र से
करुणा बरस रही हैं
करुणा भरी नज़र से
करुणा बरस रही हैं
करुणा भरी नज़र से
करुणा बरस रही हैं
करुणा भरी नज़र से

बिन मोल बिक गए हैं
जबसे छवि निहारी
बिन मोल बिक गए हैं
जबसे छवि निहारी
बिन मोल बिक गए हैं
जबसे छवि निहारी
बिन मोल बिक गए हैं
जबसे छवि निहारी

फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी
फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी

बहिया गले में डाले
जब दोनों मुस्कुराते
बहिया गले में डाले
जब दोनों मुस्कुराते
हाँ बहिया गले में डाले
जब दोनों मुस्कुराते
बहिया गले में डाले
जब दोनों मुस्कुराते

हाँ सबको ही प्यारे लगते
सबके ही मन को भाते
सबको ही प्यारे लगते
सबके ही मन को भाते
हाँ सबको ही प्यारे लगते
सबके ही मन को भाते
सबको ही प्यारे लगते
सबके ही मन को भाते

हाँ इन दोनों पे मैं सदके
ओ सदके
इन दोनों पे मैं सदके
इन दोनों पे मैं वारी
इन दोनों पे मैं सदके
इन दोनों पे मैं वारी
आ इन दोनों पे मैं सदके
ओ सदके
इन दोनों पे मैं सदके
इन दोनों पे मैं वारी
इन दोनों पे मैं सदके
इन दोनों पे मैं वारी

फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी
फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी

श्रृंगार तेरा प्यारे
शोभा कहूँ क्या उसकी
श्रृंगार तेरा प्यारे
शोभा कहूँ क्या उसकी
हाँ श्रृंगार तेरा प्यारे
शोभा कहूँ क्या उसकी
श्रृंगार तेरा प्यारे
शोभा कहूँ क्या उसकी

इसपे गुलाबी पटुका, पादुका
इसपे गुलाबी पटुका
उसपे गुलाबी साड़ी
इसपे गुलाबी पटुका
उसपे गुलाबी साड़ी

फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी
फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी

गोटा जड़ा पीतांबर
चुनरी सजी किनारी


नीलम से सोहे मोहन
स्वर्णिम सी सोहे राधा
नीलम से सोहे मोहन
स्वर्णिम सी सोहे राधा
आ नीलम से सोहे मोहन
स्वर्णिम सी सोहे राधा
नीलम से सोहे मोहन
स्वर्णिम सी सोहे राधा

इत सावंरा सलोना,
उत चंद पूर्णिमा का
इत नंद का है छोरा, छोरा
इत नंद का है छोरा
उत भानु की दुलारी
इत नंद का है छोरा
उत भानु की दुलारी
इत नंद का है छोरा, छोरा
इत नंद का है छोरा
उत भानु की दुलारी

फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी
फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी

चुन चुन के कलियाँ जिसने
बंगला तेरा बनाया
चुन चुन के कलियाँ जिसने
बंगला तेरा बनाया
चुन चुन के कलियाँ जिसने
बंगला तेरा बनाया
चुन चुन के कलियाँ जिसने
बंगला तेरा बनाया

दिव्य आभूषणों से
जिसने तुझे सजाया
दिव्य आभूषणों से
जिसने तुझे सजाया
उन हाथों पे मैं सदके, सदके
उन हाथों पे मैं सदके
उन हाथों पे मैं वारी
उन हाथों पे मैं सदके,
हो सदके
उन हाथों पे मैं वारी

फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी
फूलों में सज रहे हैं
श्री वृंदा बिहारी
और साथ सज रही हैं
श्री वृषभानु की दुलारी
और साथ सज रही हैं
श्री वृषभानु की दुलारी
और साथ सज रही हैं
श्री वृषभानु की दुलारी
और साथ सज रही हैं
श्री वृषभानु की दुलारी

More Krishna Bhajan:
AartiKunj Bihari Ki 
Krishna Krishna Hai
#  Manmohan Kanha



0 Response to "फूलों में सज रहे हैं Phoolon Mein Saj Rahe Hain Lyrics - Vinod Agarwal"

Post a Comment

Ads Atas Artikel

Ads Center 1

Ads Center 2

Ads Center 3