अरे द्वारपालों Are Dwarpalo Kanhaiya Se Keh Do Lyrics - Ramkumar Lakkha

Are Dwarpalo Kanhaiya Se Keh Do Lyrics in Hindi


Are Dwarpalo Kanhaiya Se Keh Do Lyrics in Hindi, sung by Ramkumar Lakkha. The Are Dwarpalo Kanhaiya Se Keh Do song is created by Babbuji.

Hindi Bhajan: Are Dwarpalo Kanhaiya Se Keh Do
Singer: Ramkumar Lakkha
Album: Are Dwarpalo Kanhaiya Se Keh Do
Music: Babbuji
Label: Chanda Cassettes

Are Dwarpalo Kanhaiya Se Keh Do Lyrics in Hindi 


देखो देखो ये गरीबी
ये गरीबी का हाल
कृष्ण के दर पे
विश्वास लेके आया हूँ
मेरे बचपन का यार है
मेरा श्याम
यही सोच कर मैं
आस कर के आया हूँ

अरे द्वारपालों
कन्हैया से कह दो
अरे द्वारपालों
कन्हैया से कह दो
के दर पे सुदामा
गरीब आ गया है
के दर पे सुदामा
गरीब आ गया है

भटकते भटकते
ना जाने कहां से
भटकते भटकते
ना जाने कहां से
तुम्हारे महल के
करीब आ गया है
तुम्हारे महल के
करीब आ गया है

ना सर पे है पगड़ी
ना तन पे हैं जामा
बता दो कन्हैया को
नाम है सुदामा आ..
बता दो कन्हैया को
नाम है सुदामा
आ..
बता दो कन्हैया को
नाम है सुदामा

ना सर पे है पगड़ी
ना तन पे हैं जामा
बता दो कन्हैया को
नाम है सुदामा
हो..ना सर पे है पगड़ी
ना तन पे हैं जामा
बता दो कन्हैया को
नाम है सुदामा  आ..
बता दो कन्हैया को
नाम है सुदामा

इक बार मोहन
से जाकर के कह दो
तुम इक बार मोहन
से जाकर के कह दो
के मिलने सखा बर
नसीब आ गया है
के दर पे सुदामा
गरीब आ गया है

हो.. अरे द्वारपालों
कन्हैया से कह दो
के दर पे सुदामा
गरीब आ गया है
के दर पे सुदामा
गरीब आ गया है

सुनते ही दौड़े
चले आये मोहन
लगाया गले से
सुदामा को मोहन आ..
लगाया गले से
सुदामा को मोहन हे..
लगाया गले से
सुदामा को मोहन

सुनते ही दौड़े
चले आये मोहन
लगाया गले से
सुदामा को मोहन हो..
सुनते ही दौड़े
चले आये मोहन
लगाया गले से
सुदामा को मोहन आ..
लगाया गले से
सुदामा को मोहन

हुआ रुक्मणि को
बहुत ही अचम्भा
हुआ रुक्मणि को
बहुत ही अचम्भा
ये मेहमान कैसा
अजीब आ गया है
के दर पे सुदामा
गरीब आ गया है

अरे द्वारपालों
कन्हैया से कह दो
दर पे सुदामा
गरीब आ गया है
के दर पे सुदामा
गरीब आ गया है

बराबर में अपने
सुदामा बैठाये
चरण आंसुओ से
श्याम ने धुलाये आ..
चरण आंसुओ से
श्याम ने धुलाये हाय..
चरण आंसुओ से
श्याम ने धुलाये

बराबर में अपने
सुदामा बैठाये
चरण आंसुओ से
श्याम ने धुलाये हो..
बराबर में अपने
सुदामा बैठाये
चरण आंसुओ से
श्याम ने धुलाये आ..
चरण आंसुओ से
श्याम ने धुलाये

ना घबराओ प्यारे
जरा तुम सुदामा
ना घबराओ प्यारे
जरा तुम सुदामा
खुशी का समा तेरे
करीब आ गया है
के दर पे सुदामा
गरीब आ गया है

हो.. अरे द्वारपालों
कन्हैया से कह दो
के दर पे सुदामा
गरीब आ गया है
के दर पे सुदामा
गरीब आ गया है

के दर पे सुदामा
गरीब आ गया है
के दर पे सुदामा
गरीब आ गया है
गरीब आ गया है

Post a Comment

0 Comments