देश की मिट्टी Desh Ki Mitti Lyrics – Sonu Nigam

Desh Ki Mitti Lyrics in Hindi and English from the album Bose: The Forgotten Hero. This song is sung by Sonu Nigam, Anuradha Sriram, lyrics written by Javed Akhtar and music created by A R Rahman.

Desh Ki Mitti Lyrics

Song: Desh Ki Mitti
Album: Bose: The Forgotten Hero
Singer: Sonu Nigam, Anuradha Sriram
Lyrics: Javed Akhtar
Music: A R Rahman
Music Label: Times Music

Desh Ki Mitti Lyrics in English



Mujhe yaad aatee hai
Mujhe yaad aatee hai

Apane desh kee mittee kee khushboo mujhe yaad aatee hai
Apane desh kee mittee kee khushboo mujhe yaad aatee hai
Kabhi bahalaati hai, kabhi tadpaati hai
Kabhi bahalaati hai, kabhi tadpaati hai

Mujhe yaad aatee hai, o, apane desh kee mittee
Apane desh kee mittee kee khushboo mujhe yaad aatee hai

Beete pal chune lage hai dil ko aise
Dost rakhe haath kandhe pe jaise
Kaisee ye kirane see chhan rahee hain
Kaisee tasviren see ban rahee hain

Kithne mausam yaadon mein hain aate-jaate
Baarish aayi, khul gae hain kaale chaate
Din hain alsaae hue jo aayi garmee
Sardiyon kee dhup me hai kaisee narmi

Pal-pal ek samaya ki nadiyaan hai jo bahtee jaatee hai
Apane desh kee mittee kee khushboo mujhe yaad aatee hai

Pighale tanhaayiyon ke hain jo andhere
Jagamagane se lage hain kithne chehare
Ek lori hai, ek laal bindiya
Laut aayi hai mere bachapan kee nindiya

O, koyi ek taareephen pe kab se ga raha hai
Koyi aanchal jaane kyun laharaa raha hai
Har ghadi naee baath ek yaad aa rahee hai
Dil mein pagadendi see jaise ban gayi hai

Ye pagadendi mere dil se mere desh jaatee hai
Apane desh kee mittee kee khushboo mujhe yaad aatee hai
Apane desh kee mittee kee khushboo mujhe yaad aatee hai
Mujhe yaad aatee hai

Desh Ki Mitti Lyrics in Hindi

मुझे याद आती है
मुझे याद आती है

अपने देश की मिट्टी की खुशबू मुझे याद आती है
अपने देश की मिट्टी की खुशबू मुझे याद आती है
कभी बहलाती है, कभी तड़पती है
कभी बहलाती है, कभी तड़पती है

मुझे याद आती है, ओ, अपने देश की मिट्टी
अपने देश की मिट्टी की खुशबू मुझे याद आती है

बीते पल छूने लगे हैं दिल को ऐसे
दोस्त राखे हाथ कांधे पे जैसे
कैसी ये किरणें सी छन रही हैं
कैसी तस्वीरें सी बन पा रही हैं

कितने मौसम यादों में हैं आते-जाते
बारिश आई, खुल गए हैं काले छाते
दिन हैं अलसाये हुए जो आई गर्मी
सर्दीयों की धूप में है कैसी नरमी

पल-पल एक समय की नदियाँ हैं जो बहती जाती है
अपने देश की मिट्टी की खुशबू मुझे याद आती है

पिघले तन्हाइयों के हैं जो अँधेरे
जगमगाने से लगे हैं कितने चेहरे
एक लोरी है, एक लाल बिंदिया
लौट आई है मेरे बचपन की निंदिया

ओ, कोई एक तारिफ़ पे कब से गा रहा है
कोई आँचल जाने क्यों लहरा रहा है
हर घड़ी नई बात एक याद आ रही है
दिल में पगडंडी सी जैसे बन गई है

ये पगडंडी मेरे दिल से मेरे देश जाती है
अपने देश की मिट्टी की खुशबू मुझे याद आती है
अपने देश की मिट्टी की खुशबू मुझे याद आती है
मुझे याद आती है