हरि नाम नहीं तो जीना क्या Hari Nam Nahin to Jeena Kya Lyrics

Hari Nam Nahin to Jeena Kya lyrics in Hindi, English, Sung by Pujya Rajan Ji.

Hari Nam Nahin to Jeena Kya lyrics

Hari Nam Nahin to Jeena Kya Lyrics in English



Amrt hai hari naam jagat mein
Ise chhod vishay vish peena kya
Hari naam nahin to jeena kya
Hari naam nahin to jeena kya

Amrt hai hari naam jagat mein
Amrt hai hari naam jagat mein
Ise chhod vishay vish peena kya
Ise chhod vishay vish peena kya
Hari naam nahin to jeena kya
Hari naam nahin to jeena kya

Kaal sada apane ras dole
Na jaane kab sar chadh bole
Kaal sada apane ras dole
Na jaane kab sar chadh bole

Isalie har ka naam japo nisavaasar
Har ka naam japo nisavaasar
Isamen ab baras mahina kya
Hari naam nahin to jeena kya
Hari naam nahin to jeena kya

Teerath hai hari naam tumhaara
Phir kyoon phirata maara maara
Teerath hai hari naam tumhaara
Phir kyoon phirata maara maara

Teerath hai hari naam tumhaara
Phir kyoon phirata maara maara
Teerath hai hari naam tumhaara
Phir kyoon phirata maara maara

Ant samay hari naam na aave
Ant samay hari naam na aave

To kaashee aur madeena kya
Hari naam nahin to jeena kya
Hari naam nahin to jeena kya

Bhooshan se sab ang sajaave
Rasana par hari naam na aave
Bhooshan se sab ang sajaave
Rasana par hari naam na aave

Haan bhooshan se sab ang sajaave
Rasana par prabhu naam na aave
Bhooshan se sab ang sajaave
Rasana par hari naam na laave

Deh padee rah jae yahee par
Deh padee rah jae yahee par
Pyaare deh padee rah jae yahee par
Deh padee rah jae yahee par
To phir kundal aur nageena kya
Hari naam nahin to
Hari naam nahin to jeena kya
Amrt hai hari naam jagat mein
Amrt hai hari naam jagat mein
Are amrt hai prabhu naam jagat mein
Amrt hai prabhu naam jagat mein
Ise chhod vishay vish peena kya
Hari naam nahin to jeena kya
Hari naam nahin to jeena kya
Hari naam nahin to jeena kya
Prabhu naam nahin to jeena kya

More Ram Bhajan

Hari Nam Nahin to Jeena Kya Lyrics in Hindi

अमृत है हरि नाम जगत में
इसे छोड़ विषय विष पीना क्या
हरि नाम नहीं तो जीना क्या
हरि नाम नहीं तो जीना क्या

अमृत है हरि नाम जगत में
अमृत है हरि नाम जगत में
इसे छोड़ विषय विष पीना क्या
इसे छोड़ विषय विष पीना क्या
हरि नाम नहीं तो जीना क्या
हरि नाम नहीं तो जीना क्या

काल सदा अपने रस डोले
ना जाने कब सर चढ़ बोले
काल सदा अपने रस डोले
ना जाने कब सर चढ़ बोले

इसलिए हर का नाम जपो निसवासर
हर का नाम जपो निसवासर
इसमें अब बरस महिना क्या
हरि नाम नहीं तो जीना क्या
हरि नाम नहीं तो जीना क्या

तीरथ है हरि नाम तुम्हारा
फिर क्यूँ फिरता मारा मारा
तीरथ है हरि नाम तुम्हारा
फिर क्यूँ फिरता मारा मारा

तीरथ है हरि नाम तुम्हारा
फिर क्यूँ फिरता मारा मारा
तीरथ है हरि नाम तुम्हारा
फिर क्यूँ फिरता मारा मारा

अंत समय हरि नाम ना आवे
अंत समय हरि नाम ना आवे

तो काशी और मदीना क्या
हरि नाम नहीं तो जीना क्या
हरि नाम नहीं तो जीना क्या

भूषन से सब अंग सजावे
रसना पर हरि नाम ना आवे
भूषन से सब अंग सजावे
रसना पर हरि नाम ना आवे

हाँ भूषन से सब अंग सजावे
रसना पर प्रभु नाम ना आवे
भूषन से सब अंग सजावे
रसना पर हरि नाम ना लावे

देह पड़ी रह जाए यही पर
देह पड़ी रह जाए यही पर
प्यारे देह पड़ी रह जाए यही पर
देह पड़ी रह जाए यही पर
तो फिर कुंडल और नगीना क्या
हरि नाम नहीं तो
हरि नाम नहीं तो जीना क्या
अमृत है हरि नाम जगत में
अमृत है हरि नाम जगत में
अरे अमृत है प्रभु नाम जगत में
अमृत है प्रभु नाम जगत में
इसे छोड़ विषय विष पीना क्या
हरि नाम नहीं तो जीना क्या
हरि नाम नहीं तो जीना क्या
हरि नाम नहीं तो जीना क्या
प्रभु नाम नहीं तो जीना क्या