जैसे सूरज की गर्मी से Jaise Suraj Ki Garmi Se Lyrics

Jaise Suraj Ki Garmi Se lyrics in Hindi, from the Sung by Sonu Nigam.

Jaise Suraj Ki Garmi Se Lyrics

Jaise Suraj Ki Garmi Se Lyrics In English



Jaise suraj ki garmi se jalte hue tan ko
Mil jaaye taruvar ki chhaya
Suraj ki garmi se jalte hue tan ko
Mil jaaye taruvar ki chhaya
Aisa hi sukh mere man ko mila hai
Main jabse sharan teri aaya…mere ram
Suraj ki garmi se jalte hue tan ko
Mil jaaye taruvar ki chhaya

Bhatka hua mera man tha koi
Mil na raha tha sahara
Bhatka hua mera man tha koi
Mil na raha tha sahara
Lehro se ladati huyi naav ko jaise
Lehro se ladati huyi naav ko
Jaise mil na raha ho kinara
Mil na raha ho kinara
Us ladakhadati hui naav ko jo
Kisi ne kinara dikhaya
Aisa hi sukh mere man ko mila hai
Main jabse sharan teri aaya…mere ram
Jaise suraj ki garmi se jalte hue tan ko
Mil jaaye taruvar ki chhaya…

Sheetal bane aag chandan ke jaisi
Raghav kripa ho jo teri
Raghav kripa ho jo teri
Ujiyali punam ki ho jaaye rate
Jo thi amavas andheri
Ujiyali punam ki ho jaaye rate
Jo thi amavas andheri
Jo thi amavas andheri
Yug yug se pyasi marubhumi ne
Jaise savan ka sandes paya
Aisa hi sukh mere man ko mila hai
Main jabse sharan teri aaya…mere ram
Jaise suraj ki garmi se jalte hue tan ko
Mil jaaye taruvar ki chhaya…

Jis raah ki manzil tera milan ho
Us par kadam main badhau
Jis raah ki manzil tera milan ho
Us par kadam main badhau
Phulo mein kharo mein patajhad baharo mein
Main na kabhi dagamagau
Phulo mein kharo mein patajhad baharo mein
Main na kabhi dagamagau
Main na kabhi dagamagau
Pani ke pyase ko taqdeer ne
Jaise ji bhar ke amrit pilaya
Pani ke pyase ko taqdeer ne
Jaise ji bhar ke amrit pilaya
Aisa hi sukh mere man ko mila hai
Main jabse sharan teri aaya…mere ram
Jaise suraj ki garmi se jalte hue tan ko
Mil jaaye taruvar ki chhaya…

Aisa hi sukh mere man ko mila hai
Main jabse sharan teri aaya…mere ram
Jaise suraj ki garmi se jalte hue tan ko
Mil jaaye taruvar ki chhaya…

Jaise Suraj Ki Garmi Se Lyrics In English PDF

More Ram Bhajan

For more information about the song and its details, check out the Jaise Suraj Ki Garmi Se Bhakti Song music video on the devotionalzone YouTube channel.

Jaise Suraj Ki Garmi Se Lyrics In Hindi

जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाए तरुवर की छाया
सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाए तरुवर की छाया
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है
मैं जबसे शरण तेरी आया…मेरे राम
सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाए तरुवर की छाया

भटका हुआ मेरा मन था कोई
मिल न रहा था सहारा
भटका हुआ मेरा मन था कोई
मिल न रहा था सहारा
लहरों से लड़ती हुयी नाव को जैसे
लहरों से लड़ती हुयी नाव को
जैसे मिल ना रहा हो किनारा
मिल न रहा हो किनारा
उस लड़खड़ाती हुई नाव को जो
किसी ने किनारा दिखाया
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है
मैं जबसे शरण तेरी आया…मेरे राम
सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाए तरुवर की छाया…

शीतल बने आग चंदन के जैसी
राघव कृपा हो जो तेरी
राघव कृपा हो जो तेरी
उजियाली पूनम की हो जाए राते
जो थी अमावस अंधेरी
उजियाली पूनम की हो जाए राते
जो थी अमावस अंधेरी
जो थी अमावस अंधेरी
युग युग से प्यासी मरुभूमि ने
जैसे सावन का संदेस पाया
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है
मैं जबसे शरण तेरी आया…मेरे राम
सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाए तरुवर की छाया…

जिस राह की मंज़िल तेरा मिलान हो
उस पर कदम मैं बढ़ाऊ
जिस राह की मंज़िल तेरा मिलान हो
उस पर कदम मैं बढ़ाऊ
फूलों में खरो में पतझड़ बहारों में
मैं न कभी डगमगाउ
फूलों में खरो में पतझड़ बहारों में
मैं न कभी डगमगाउ
मैं न कभी डगमगाउ
पानी के प्यासे को तक़दीर ने
जैसे जी भर के अमृत पिलाया
पानी के प्यासे को तक़दीर ने
जैसे जी भर के अमृत पिलाया
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है
मैं जबसे शरण तेरी आया…मेरे राम
जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाए तरुवर की छाया…

ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है
मैं जबसे शरण तेरी आया…मेरे राम
जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाए तरुवर की छाया…

Jaise Suraj Ki Garmi Se Lyrics In Hindi PDF