तेरा भवन सजा जिन फूलों से Tera Bhawan Saja Jin Phoolon Se Lyrics – Lakhbir Singh Lakkha

Tera Bhawan Saja Jin Phoolon Se lyrics in Hindi, Sung by Lakhbir Singh Lakkha, lyrics written by Balbir Nirdosh and music composed by Durga-Natraj.

Tera Bhawan Saja Jin Phoolon Se lyrics

Tera Bhawan Saja Jin Phoolon Se Song Details

Bhajan TitleTera Bhawan Saja Jin Phoolon Se
SingerLakhbir Singh Lakkha
LyricsBalbir Nirdosh
MusicDurga-Natraj
LabelT-Series

Tera Bhawan Saja Jin Phoolon Se Lyrics in Hindi



तेरा भवन सजा जिन फूलों से
उन फूलों की महिमा खास है माँ
बड़ा गर्व है उनको किस्मत पर
तेरा हुआ जो उनमें निवास है माँ।।

उन फूलों को देवता नमन करे
तेरी माला बनी जिन फूलों की
तू झूलती जिनमें माला पहन
क्या शान है माँ उन झूलों की
कभी वैसी दया हम पर होगी
तेरे भक्तो को पूरी आस है माँ।

तेरा भवन सजा जिन फूलों से
उन फूलों की महिमा खास है माँ
बड़ा गर्व है उनको किस्मत पर
तेरा हुआ जो उनमें निवास है माँ।।

कुछ फूल जो साची निष्ठा के
तेरी पावन पिण्डिया पे है चढ़े
तेरी महक में उनकी महक घुली
ये भाग्यवान है सबसे बड़े
हर भाग्य की रेखा बदलने की
दिव्य शक्ति तुम्हारे पास है माँ।

तेरा भवन सजा जिन फूलों से
उन फूलों की महिमा खास है माँ
बड़ा गर्व है उनको किस्मत पर
तेरा हुआ जो उनमे निवास है माँ।।

नित गगन की छत से सतरंगे
तेरे मंदिरो पे फूल है बरसे माँ
उन फूलो को माथे लगाने को
तेरे नाम के दिवाने तरसे माँ
लख्खा पे रहेगी तेरी दया
निर्दोष को ये विश्वास है माँ।

तेरा भवन सजा जिन फूलों से
उन फूलों की महिमा खास है माँ
बड़ा गर्व है उनको किस्मत पर
तेरा हुआ जो उनमे निवास है माँ।।

More Durga Mata Bhajan

Tera Bhawan Saja Jin Phoolon Se Music Video

Tera Bhawan Saja Jin Phoolon Se Lyrics

Tera bhawan saja jin phoolon se
Un phholon ki mahima khaas hai maa
bada garv hai unko kismet par
Tera hua jo unme niwas hai maa

Un phoolon ko devta naman kare
teri mala bani jin phoolon ki
Tu jhulti jinme mala pehen
kya shaan hai maa un jhoolon ki
Kabhi waisi daya hum par hogi
Tere bhagto ko puri aash hai maa

Tera bhawan saja jin phoolon se
Un phholon ki mahima khaas hai maa
bada garv hai unko kismet par
Tera hua jo unme niwas hai maa

Kuchh phhol jo sacchi nishtha ke
teri pindi pe chadhe
Maa teri mehek mai unki mehek ghuli
yeh bhagywan hai sabse bade
Har bhagya ki rekha badalne ki
Divya Shakti tumhare paas hai maa

Tera bhawan saja jin phoolon se
Un phholon ki mahima khaas hai maa
bada garv hai unko kismet par
Tera hua jo unme niwas hai maa

Hi nit gagan ki chat se
teri mandiro pe phool jo barse maa
Un phoolon ko matha lagane se
tere naam ke diwane tarase maa
Lakkha pe rahegi teri daya
Lakkha pe rahegi teri daya
Nirdosh ko yeh viswas hai maa

Tera bhawan saja jin phoolon se
Un phholon ki mahima khaas hai maa
bada garv hai unko kismet par
Tera hua jo unme niwas hai maa