कर्मो से नालायक हूँ फिर भी मुझको अपनाता है Karmo Se Nalayak Hu Lyrics

Karmo Se Nalayak Hu lyrics in English and Hindi, Sung by Sagar Singhal, lyrics written by Ragini Viswas, Puspendr Gupta and music created by Dinesh Mishra.

Karmo Se Nalayak Hu Lyrics

Song: Karmo Se Nalayak Hu
Singer: Sagar Singhal
Lyrics: Ragini Viswas & Puspendr Gupta
Music: Dinesh Mishra
Lebal: Lakhdatar Music&films

Karmo Se Nalayak Hu Lyrics In English



Jab bhi akela padata hoon
Mera shyam hi sath nibhata hai
Jab bhi akela padata hoon
Mera shyam hi sath nibhata hai
Karmo se nalayak hoon
Phir bhi mujhako apanata hai
Karmo se nalayak hoon
Phir bhi mujhako apanata hai

Apanon ne mujhako hai giraya
Shyam ne ake uthaya hai
Shyam premi ki di pahachan
Muhako gale lagaya hai
Lakhon ahasan isane kie hai
Phir bhi ye na jatata hai
Lakhon ahasan isane kie hai
Phir bhi ye na jatata hai
Karmo se nalayak hoon
Phir bhi mujhako apanata hai
Karmo se nalayak hoon
Phir bhi mujhako apanata hai

Giragit se pahale dekha hai mainne
Apanon ko badalate ji
Kiya bharosa shyam pe mainne
Sath sath mere chalate ji
Rahon ke kanton ko ye chunata
Prem ke phool bichhata hai
Rahon ke kanton ko ye chunata
Prem ke phool bichhata hai
Karmo se nalayak hoon
Phir bhi mujhako apanata hai
Karmo se nalayak hoon
Phir bhi mujhako apanata hai

Ye khatoo mein darabar lagakar
Baitha khatoo vala hai
Sabaki sunata sabako deta
Mera shyam nirala hai
Bich bhavar mein doob jo jae
Shyam hi par lagata hai
Bich bhavar mein doob jo jae
Shyam hi par lagata hai
Karmo se nalayak hoon
Phir bhi mujhako apanata hai
Karmo se nalayak hoon
Phir bhi mujhako apanata hai

Apana mujhe kahakar sabane
Sare bajar lutaya hai
Rishton ki janjiron se dekho
Kaisa jal bichhaya hai
Dharm ka rishta ‘ragi’ darsh se
Sachcha sath nibhata hai
Dharm ka rishta ‘ragi’ darsh se
Sachcha sath nibhata hai
Karmo se nalayak hoon
Phir bhi mujhako apanata hai
Karmo se nalayak hoon
Phir bhi mujhako apanata hai

Jab bhi akela padata hoon
Mera shyam hi sath nibhata hai
Karmo se nalayak hoon
Phir bhi mujhako apanata hai
Karmo se nalayak hoon
Phir bhi mujhako apanata hai
Karmo se nalayak hoon
Phir bhi mujhako apanata hai

Karmo Se Nalayak Hu Lyrics In English, Hindi PDF

More Krishna Hindi Bhajans:

For more information about the song and its details, check out the Karmo Se Nalayak Hu Bhakti Song music video on the Lakhdatar Music&films YouTube channel.

Karmo Se Nalayak Hu Lyrics In Hindi

जब भी अकेला पड़ता हूँ
मेरा श्याम ही साथ निभाता है
जब भी अकेला पड़ता हूँ
मेरा श्याम ही साथ निभाता है
कर्मो से नालायक हूँ
फिर भी मुझको अपनाता है
कर्मो से नालायक हूँ
फिर भी मुझको अपनाता है

अपनों ने मुझको है गिराया
श्याम ने आके उठाया है
श्याम प्रेमी की दी पहचान
मुहको गले लगाया है
लाखों अहसान इसने किए है
फिर भी ये ना जताता है
लाखों अहसान इसने किए है
फिर भी ये ना जताता है
कर्मो से नालायक हूँ
फिर भी मुझको अपनाता है
कर्मो से नालायक हूँ
फिर भी मुझको अपनाता है

गिरगिट से पहले देखा है मैंने
अपनों को बदलते जी
किया भरोसा श्याम पे मैंने
साथ साथ मेरे चलते जी
राहों के काँटों को ये चुनता
प्रेम के फूल बिछाता है
राहों के काँटों को ये चुनता
प्रेम के फूल बिछाता है
कर्मो से नालायक हूँ
फिर भी मुझको अपनाता है
कर्मो से नालायक हूँ
फिर भी मुझको अपनाता है

ये खाटू में दरबार लगाकर
बैठा खाटू वाला है
सबकी सुनता सबको देता
मेरा श्याम निराला है
बिच भवर में डूब जो जाए
श्याम ही पार लगाता है
बिच भवर में डूब जो जाए
श्याम ही पार लगाता है
कर्मो से नालायक हूँ
फिर भी मुझको अपनाता है
कर्मो से नालायक हूँ
फिर भी मुझको अपनाता है

अपना मुझे कहकर सबने
सरे बाजार लुटाया है
रिश्तों की जंजीरों से देखो
कैसा जाल बिछाया है
धर्म का रिश्ता ‘रागी’ दर्श से
सच्चा साथ निभाता है
धर्म का रिश्ता ‘रागी’ दर्श से
सच्चा साथ निभाता है
कर्मो से नालायक हूँ
फिर भी मुझको अपनाता है
कर्मो से नालायक हूँ
फिर भी मुझको अपनाता है

जब भी अकेला पड़ता हूँ
मेरा श्याम ही साथ निभाता है
कर्मो से नालायक हूँ
फिर भी मुझको अपनाता है
कर्मो से नालायक हूँ
फिर भी मुझको अपनाता है
कर्मो से नालायक हूँ
फिर भी मुझको अपनाता है




Posted

in

by

Tags: